Breaking News

पीएम मोदी ने गुरु रविदास महाराज की जन्म स्थली में अलग अलग सौन्दर्यीकरण के कामों के रखें नींव पत्थर

नई दिल्ली : श्री गुरु रविदास महाराज की जन्मस्थली वाराणसी में आज उनके प्रकाशोत्सव पर रविदासिया संत समाज की तरफ से भव्य समागम करवाया गया। समागम में डेरा बल्ला के संत महात्मा के आह्वान पर केंद्रीय मंत्री विजय सांपला ने देश के पीएम श्री नरेंदर मोदी और यूपी के सीएम योगी अदित्यनाथ को भी समागम में शिरकत करने के लिए विशेष तौर पर आह्वान किया था। केंद्रीय मंत्री सांपला के आह्वान के बाद पीएम नरेंदर मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में शिरकत की। इस दौरान पीएम मोदी द्वारा श्री गुरु रविदास महाराज की जन्म स्थली के लिए  अलग अलग कार्यो के नींव पत्थर रखें जिनका केंद्रीय मंत्री विजय सांपला ने उनका आभार व्यक्त किया। श्री सांपला ने कहा कि इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब देश के किसी प्रधान मंत्री ने रविदासिया समाज को इतनी बड़ी सौगात दी हो। पीएम नरेंदर मोदी ने श्री रविदास मंदिर को ओर बढ़ा करने के कार्यो का नींव पत्थर रखा जिसके साथ मंदिर का गलियारा भी बढ़ेगा और संगत को काफी सुविधा होगी। इसके अलावा श्री मोदी ने 33 एकड़ जमींन पर बड़ा पार्क बनाने का नींव पत्थर रखा और इस पार्क में श्री गुरु रविदास महाराज की बड़ी मूर्ति भी सुशोभित होगी और इसी पार्क में संगत खुले में सत्संग भी कर सकेगी। श्री सांपला ने बताया कि इसके अलावा पीएम मोदी ने एक कम्यूनिटी हाल बनाने के लिए भी नींव पत्थर रखा। सरकार पिछले साढ़े 4 साल से बिना किसी भेदभाव के हर किसी का ख्याल रख रही है।

इस प्रांगण को विकसित करने और इसके सौन्दर्यीकरण की बात व मांग दशकों से हो रही थी, लेकिन किसी सरकार ने उसे पूरा नहीं किया था। आज इन सभी कार्यों का शुभारंभ हुआ है। उन्होंने कहा, संत रविदास जी की जन्मस्थली करोड़ो लोगों के लिए आस्था और श्रद्धा का स्थल है। सांपला ने कहा गुरु जी ने ऐसे भारत की कल्पना की थी, जहां बिना किसी भेदभाव के हर किसी का ख्याल रखा जाए। हमारी सरकार पिछले साढ़े चार साल से इसी भावना को आगे बढ़ाते हुए लोक कल्याण के काम कर रही है। श्री सांपला ने कहा हम सभी भाग्यशाली हैं, जिन्हें गुरुओं, संतो और ऋषियों-मुनियों का मार्गदर्शन मिला। गुरुओं का ये ज्ञान और महान परम्परा ऐसे ही हमारी पीढिय़ों को रास्ता दिखाती रहे, इसके लिए भी हमारी सरकार लगातार कार्य कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top