Breaking News

भाई से हर बहन ले रक्षा बंधन पर नशों और सामाजिक बुराइयों से दूर रहने का प्रण

कल्याण केसरी न्यूज़ अमृतसर,1 अगस्त : रक्षा बंधन का त्यौहार बहन और भाई के प्यार का प्रतीक है। इस दिन एक बहन अपने भाई को राखी बांध कर अपनी रक्षा और प्यार को सदा कायम रखने का वायदा लेती है और भाई भी कोई न कोई गिफ्ट दे कर उसकी रक्षा करने का वायदा बहन के साथ करता है। यह रीत काफ़ी समय से चली आ रही है। समय समय पर अनुसार इन त्यौहारों के मनाने के तरीकों में अंतर आता रहता है। यहां यह उल्लेखनीय है कि बदलाव यदि अच्छे के लिए आए तो ठीक है लेकिन समय कुछ इस समय पर कुछ ओर चाह रहा है।
सामाजिक बुराईयों से भाइयों को बचाने में योगदान दें बहनें समाज में जिस तरह इस समय पर स्थिति बनी हुई है, नशों और सामाजिक बुराइयों ने इस समय पर अपना पूरा ज़ोर पकड़ा हुआ है।

इन बुराइयों से अपने भाइयों को बचाने के लिए बहनों को योगदान देना चाहिए क्योंकि बहन भाई का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है, जिस में शरारतें ज़रूर होती हैं एक बहन यदि चाहे तो अपने भाई को इन बुराइयों से बचा सकती है। मैं यह नहीं कह रहा है कि किसी का भाई इन सामाजिक बुराइयों का शिकार है परन्तु इन्हें सामाजिक बुराइयों से बचने के लिए बचाव बहुत ही ज़रूरी है क्योंकि पता नहीं किस समय पर किसी बुरी संगत में किसी का भाई पड़ जाये और अपनी जान तो गवाने के साथ ही परिवार को ऐसी चोट लगती है कि परिवार को पैरों पर आते काफ़ी समय गुजऱ जाता है।

बहन का प्यार भाई को देता है ताकत हम समाज में देखते हैं कि बहन और भाई का रिश्ता परिवार के बाकी रिश्तों की अपेक्षा एक अलग रिश्ता माना जाता है। इस रिश्तो में तकरार, गुस्सा, लड़ाई ज़रूर होती है परन्तु साथ प्यार भी बहुत होता है। अक्सर ही जब छोटी उम्र में बहन भाई के में तकरार होती है तो माँ बाप बहन भाई को यह बात आम ही कह देते हैं कि जब एक दूसरे से दूर होगे व बहन का विवाह हो गया तो फिर पता चलेगा, इस रिश्ते की अहमीयत। यही बहनों का प्यार भाइयों की ताकत होता है, जिस के साथ वह हर समस्या के साथ लड़ सकता है। बहनों भाइयों के लिए एक सुरक्षा कवच भी होता है क्योंकि एक बहन सदा ही अपने माँ बाप साथ साथ अपने भाइयों की सुख मांगती है, वह चाहे जहाँ मजऱ्ी होने उनके के लिए बहनों दुआएं ही मांगती रहती हैं। यही दुआएं ही भाइयों की हर स्थान पर उनकी रक्षा करती हैं।

Comments are closed.

Scroll To Top