Friday , 18 September 2020
Breaking News

रासायनिक मुक्त मानक बासमती चावल अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक्सपोर्ट के लिए फायदेमंद होगा: डॉ सुतंतर कुमार एरी, निदेशक कृषि

कल्याण केसरी न्यूज़ अमृतसर 8 अगस्त: निदेशक, कृषि और किसान कल्याण विभाग, पंजाब, डॉ सुतंतर कुमार एरी तीन जिलों अमृतसर, गुरदासपुर और तरनतारन के कृषि अधिकारियों के साथ बैठक हुई। उन्होंने कहा कि राइस मिलर्स एसोसिएशन ने मांग की है कि विदेशों में बासमती चावल की मांग काफी बढ़ गई है। इसलिए गुणवत्तापूर्ण बासमती का उत्पादन करके दिया जाना चायिए और किसानों को उचित मूल्य दाम मिलेगा । डॉ गुरदयाल सिंह बल, मुख्य कृषि अधिकारी, अमृतसर, डॉ रमिंदर सिंह धनजू, मुख्य कृषि अधिकारी, गुरदासपुर और डॉ कुलजीत सिंह सैनी, मुख्य कृषि अधिकारी, तरनतारन को निर्देश दिया कि वे अंतर्राष्ट्रीय बाजार में केवल रासायनिक मुक्त बासमती चावल की माँग है और इसके कारण विष मुक्त मानक बासमती के उत्पादन पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने ऐसफेट विजाफोस, थियामेथोक्साम, कार्बेन्डाजिम ट्राइसाइक्लाजोल, बुप्रोफेन, कार्बोफ्यूरान, प्रोपीकोनाजोल और थियाफाइल सहित बासमती फसल पर नौ कीटनाशकों के गैर-अनुप्रयोग की सिफारिश की है। उन्होंने कहा कि अगर इन ज़हरों का इस्तेमाल बासमती फसल पर कीड़ों और कवक को नियंत्रित करने के लिए किया जाये तो इन ज़हरों बासमती चावल में मौजूद होंगे और इसलिए बासमती चावल को विदेशों में निर्यात नहीं किया जा सकता है। इसलिए, इन जहरों के उपयोग के बिना रासायनिक मुक्त मानक बासमती का उत्पादन समय की आवश्यकता है। उन्होंने कृषि अधिकारियों से किसानों को इस बारे में जागरूक करने के लिए कहा। उन्होंने आगे कहा कि माननीय राष्ट्रीय हरित अधिकरण के निर्देशों के अनुसार, धान के पुआल और कचरे को जलाना सख्त वर्जित है।

इसलिए, किसानों के साथ व्यक्तिगत संपर्क किया जाना चाहिए और किसानों को इसके बारे में जागरूक किया जाना चाहिए और इन-सीटू स्ट्रॉ प्रबंधन के लिए जुटाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों को कृषि इनपुट की गुणवत्ता की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए प्रवर्तन टीमों का गठन किया गया है और किसान सदस्यों की भागीदारी भी सुनिश्चित की जाएगी। बैठक में उपस्थित कृषि अधिकारियों के साथ अन्य कृषि विकास कार्यों पर भी चर्चा की गई। इस अवसर पर अवतार सिंह बटर, जतिंदर सिंह गिल, जगविंदर सिंह, हरपाल सिंह, तजिंदर सिंह, प्रितपाल सिंह, सुरिंदरपाल सिंह, सतबीर सिंह, जोगराजबीर सिंह गिल, मनिंदर सिंह, कुलवंत सिंह, हरशरणजीत सिंह (सभी कृषि अधिकारी), रणबीर सिंह मौजूद थे। रंधावा परजीत सिंह औलख, सुखचैन सिंह, बलविंदर सिंह छिनन, हरदीप कौर, सतविंदर कौर, तेजबीर सिंह, जगदीप कौर कृषि अधिकारी भी उपस्थित थे।

Comments are closed.

Scroll To Top